Best Hindi poetry lines | सर्वोत्कृष्ट हिंदी कविता ओळी.

Best Hindi poetry lines

इस आर्टिकल मैं हम देखेंगे best hindi poetry lines इसमे बहूत सारी तो लव शायरी दीए हुए है।

1

मुझे रखता है वो रब-ए-जान से

ये बात सच है मेरा बाप कम नहीं

मेरी मां से,वो मां के कहने पर

कुछ रोब मुझ पर दिखाता है

यही वजह है कि वो मुझे चूमने से

झिझकता है, ये दुआ है दिल से

सलामत रहे वो हरदम।

2

जुड़ी है हर खुशी उसकी, मेरी मुस्कान से

ये बात सच है मेरा बाप कम नहीं मेरी मां से

हर एक दर्द चुपचाप सहता है,तमाम उम्र वो

अपनो लिए,अपनों से दूर रहता है

लोटता है कई रात देर से,दिन में वजूद

उसका पसीने में ढल कर बहता है

हां ये बात सच है

मेरा बाप कम नहीं मेरी मां से।

3

माशा-अल्लाह, ये दुनिया भी

कमाल की होती है, नाम दूरियां

पर इंसान को और करीब ले आती है।

Best Hindi poetry lines

 

4

मैं चाय की तरह

थोड़ी कड़क लेकिन मीठी रहूंगी

तुम भी वादा करो

अखबार के जैसे, मुझे

रोज़ दिनभर की खबर सुनाओगे।

5

ऐ दिल,अब इतनी भी

आजमाईश न कर हमारी

कि आंखे तरश जाए

उनके दिदार को।

6

न जाने कौन सा नशा हैं,

उनके प्यार में,

रूठ कर भी न रूठ न पाते हैं,

सोचते हैं,दुरियाँ रखेंगे

लेकिन फिर करीब

आ जाते हैं।

7

वक़्त लगेगा थोडा सा,

पर दोनो खुशियाँ लाएंगे

प्यार की एक डोर से

जिंदगी के सातों रंग सजाएगे

8

सुना तो था कि वक्त के साथ

लोग अक्सर बदल जाया करते हैं

पर कभी देखा नहीं था

कि इतनी जल्दी बदल जाते हैं।

 

सर्वोत्कृष्ट हिंदी कविता ओळी

9

हम भी आसमानो के परिंदों

कि तरह आजाद उड़ा करते

थे, पर जब से हुई मोहब्बत

के पिंजरे से दोस्ती तब से

आसमान से दोस्ती करना बुल

बैठे

10

आंसुओ की गुंजाइश

न कर इस महपिल

ये दोस्त की महफ़िल हैं,

ये आंसुओ को भी

खरीद लेते हैं।

11

कई सदियों का इंतजार पूरा होगा

पूरा देश दीप्मोत्सव बनायेगा

अयोध्या दुल्हन की भांति सजेगी-सवरेगी

अपने प्रभु श्रीराम के स्वागत के लिए।

12

अब अकेले ही निकल पड़े

जिल की ओर

साय वो ही हमें डूब ले

हमें।

13

उनकी आवाज सुनने को

बेकरार रहते हैं

शायद इसी को दुनिया में,

प्यार कहते हैं

काटने से भी जोना कटे वक़्त

उसी को मोहब्बत में

इंतज़ार कहते हैं।

14

कभी मौका मिले तो,

हंस लिया करो, दिल खोल कर

क्योंकि कम नहीं हैं

लोग यहां, रूलाने वाले।

15

फ़रेब से बनी ये दुनिया, मुखोटे .

बदलते हुए लोग,खेल खेलती

हुई ज़िन्दगी, ये सब जानते हुए,

भी अंजान बन बैठा है ये इंसान।

16

तुम बिन खेल भी चलेगा

लेकिन तुम्हारी तरह

आखिर में छक्का लगाकर मैच का

रूख कौन बदलेगा।

17

न मोहब्बत का नाम होता,

न हमारी पहली मुलाकात

को मोहब्बत का नाम

मिलता।

18

जो कभी

हमें अपनी जान कहते थे

वो,अब हमें अंजान समझते हैं।

19

महादेव के प्यारे हैं।

मांगौरी के दुलारे

हैं रिद्धि-सिद्धी संग विघ्नहर्ता

मूसक-राज गणेश पधारे हैं।

20

ना जाने कौन से सफ़र पे हैं दिल,

हर एक मौसम नया सा हैं,

हर एक बात रंगीन सी हैं,

@ना जान हर एक पल में खुशियां

हैं, ना जाने हर चीज़ नई सी

ना जाने क्यूं इतना खुश हैं दिल ,

@..ना जाने क्यूं हर गली खुशनुमा हैं,

ना जाने क्यूँ हर गली में कुछ नया सा हैं,

@..ना जाने बयान नकली नई

सी हैं न जाने का सफर पेह दिल

 

Hindi poetry lines

21

उन्हें हमारी फिक्र भी है

और जुबां पर जिक्र तक नहीं।

22

किसी के न आने की

पता होते

हुए भी उसी

को चाहते

रहना हर

किसी के

बस की बात

बात नही

23

सब्र कर कुछ तो सब्र कर ये वक़्त यू

हुई गुज़र जायेगा,ऐ बंदे कुछ सब्र

कर, ये तो उसकी अनोखी सी बात

है, कि खुशियां लबी भी छोटी लगती हैं,

और दुःख सेटे भी लंबे लगती हैं।

ऐ बंटे कुछ तो सब्र कर, उसने वक़्त को एक जगह ठहरने न

दिया है। ऐ बंध कुछ तो हर वक़्त

गुज़र जायेगा सा उसने चक़्त को क जैसा ना रहने की इजास हैं।

ऐ बंदे कुछ वो सब्र कर उसने नियम बनाए हर चीज के,

ऐ बंदे कुछ तो सब कर, हर धुप के बाद छांव है,हर रात के बाद दिन है,ऐ

बंदे सब्र कर ,वो हर वक़्त में संभाले

वो हर वक़्त के लिए हिम्मत देगा,ऐ बंदे सब्र कर।

24

हम इश्क़ की हर हद को पर कर जाएंगे, जिते जी न सही, मर कर भी तुमको अपना जाएंगे।

25

अकेली हो गयी हूँ इस “जमाने”में इसलिये डरती हूँ “सच” बताने में “गम”छुपाने की जरुरत अब नहीं पड़ती,क्योंकी माहिर हो गयी हूँ “मुस्कुराने में

26

एक हसीन कल की ज़रूरत है हमें , बीते हुए कल की ज़रूरत है हमें ।

27

बिकती है ना ख़ुशी ना कहीं ग़म बिकता है, लोग ग़लतफ़हमी में हैं कि शायद कहीं मरहम बिकता है।

 

Best Hindi poetry lines

28

माँ बाप के फ़ों को कुछ इस तरह समझा है मैंने… की बहार में फूल,फ़िज़ा में पत्ते मौसम कोई भी हो, पेड़ को तो कुछ ना कुछ खोना ही है।

29

मेरा कंधा बहुत खास है उसके लिए , इसपर सर रखकर अक्सर पिरोया करती है।

30

खुदा की मौजूदगी महसूस की तो ख़याल आया… देकर जुगनुओं को चमक तारों का अमंड तोड़ा, खुदा भी खुद के होने के क्या क्या सबूत देता है।

31

कहते हैं जिसको कृष्ण वो आनंद कंद है, लीला रचाने वाला वही कृष्ण चंद है, छत्तीस राग रागिनी मुरली में बंद हैं , हमको तो मुरली वाले की गुरली पसंद है।

32

मे मेरे दोस्त बता तुझे क्या तोहफ़ा ढू, मैं ,तु ,तेरा ये दिन क्या इतना काफ़ी नहीं ।

33

जब जिंदगी हाथों से निकल रही होती है, तो सबसे महत्वपूर्ण काम जो हमें पहले कर लेने चाहिए थे, अक्सर तभी याद आते हैं ।

34

क़तरा भर इन सा हो जाऊँ , उस पल में ही मुक्कम्मल हो जाऊँ ।

35

माफ़ी माँग लेना और माफ़ कर देना , खुश रहने का इससे आसान रास्ता भी कुछ है क्या?

36

अगर किसी महफ़िल में जाओ तो इत्मिनान से बैठकर सुनना, क्यूंकि खड़े होकर तमाशे देखे जाते हैं, महफ़िलें नहीं।

37

इंसान की इंसानियत ख़त्म होता देख ख़याल यूँ आया की… शतरंज में वज़ीर और जिंदगी में ज़मीर अगर मर जाए तो खेल ख़त्म समझिए।

38

क्या बताऊँ कैसे गा जाता हुँ मैं, ना चाहते हुए उसका नाम ले जाता हूँ में। हाँ सही कहाँ इस नाम में ही कुछ ख़ास है, पहले उसका अब रब का अहसास है।

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *