Shayari poem in hindi | Love Shayari poem ( कविता )

Shayari poem in hindi

इस लेख हमने बहूत सारी कविता (shayari poem in hindi ) दिए जो कि बहूत से catogory मैं मिक्स दिए हुए जो आपको बहूत पसंद आएंगे।

Shayari poem in hindi, Love Shayari poems ( कविता ),

1

जो कभी मरते थे,हमारी मुस्कान पर

अब कहते हैं, बेवजह मत हंसों।

2

माँ

मैं कैसे माँ की ममता को चार

लाइनों में लिख दूं,

जो प्यार की मूरत

जिसकी भगवान की सी सूरत हैं.

जिसकी शक्ति के आगे

त्रिलोकी भी नत मस्तक है।

3

लोग प्यार में जीने-मरने की

कसमें खाते हैं, और हमारी

जिंदगी दोस्तों पर कुर्बान हैं।

Love Shayari poems ( कविता ),

4

माँगी गई दुआएं

जरुर रंग लाएगी,

इस जन्म में न मिले,

तो अगले जन्म तुमको

जरुर हमरा बनाऐंगी।

Best shayari and poems

5

मां मेरी हर खुशी में शामिल है ।

मेरे हर ग़म का साथी है तूं

जिंदगी के हर मोड़ पर, मुझे,

सम्भालने वाली, एकमात्र प्राणी है तूं।

6

जिंदगी में सच्चा प्यार करने वाले

लोग बहुत कम मिलते हैं

लेकिन निस्वार्थ प्रेम करने वाले

मां-बाप जरूर मिलते हैं।

7

ऐ जिंदगी मुहल्यादा कुछ नहीं चाहिंए

बस गिरने के बाद

उठने का हौसला

चाहिए।

8

इश्क़ की नसमजदारी में हम तो सब कुछ गवां बैठे हैं

उसे खिलौने की जरुरत है,और हम दिल थमा बैठे हैं

वो खुश हैं बहूत,

की अब जी नही करता कि पूछू हमारी याद आती ह की नही

इस हद तक साथ निभाया हमने, कि तेरे साथ छोड़ने पर भी साथ दिया तेरा

झूठे लोग सच्चा प्यार निभाया हमने, और

सच्चे लोग किसी का झूठा प्यार भी नही भुला पाते

बहुत जी लिया उसके लिए जो मेरे लिए सब कुछ था अब उसके लिए जीना है जिसके लिये में सब कुछ हूँ।

9

कभी बारिश आये, तो छाता ले लेना

अगर आंखे भर आये, तो क्या कीजिएगा

कभी सफर तय करना हो, तो सवारी ले लेना

अगर सपने पीछे छूट जाये,तो क्या कीजिएगा

कभी किमती कलम टूट जाये,तो दूसरी ले लेना

अगर दिल टूट जाये, तो क्या कीजिएगा।

Love Shayari poem ( कविता )

10

मुझे इंतज़ार है,उस दिन का

जिस दिन, मेरी Dp में वो मेरे साथ होगी

कोसों दूर हैं इन आंखों से नींद

और वो पगली कहती हैं

सो जाओ बाबू कल बात होगी

मैंने कहा, जब तुम आओगे ना

मेरे लिए वहीं रात होगी

जिस दिन तुम्हें जाने की जल्दी न हो

क्या ऐसी भी कोई मुलाकात होगी

कोसों दूर हैं इन आंखों से नींद

और वो पगली कहती हैं

सो जाओ बाबू कल बात होगी।

11

चलें थे,लेकर आंखों में सपने अनेक

गांवों से शहरों की ओर

सोचा था, अच्छा कमायेंगे अच्छा खायेंगे

लेकिन मिला क्या?

जिस देश की अर्थव्यवस्था के पहिए

को हमने अपने खून -पसीने से आगे बढ़ाया

जिन ऊंची-२ इमारतों को

अपने श्रम से गगन चूमी बनाया

लेकिन जब संकट आया, तो मिला क्या?

सिर्फ खोखले वादे, तकलीफें, भूखमरी

न सरकार का सहारा मिला

न मील मालिकों का साथ

मिलीं तो, सिर्फ बेबसी और लाचारी

भूख से रोते-बिलखते बच्चों के दुःखी चेहरे

पैर में छाले, आंखों में मजबूरी का दर्द

चिल्लाती धूप में सैकड़ों मीलों की दूरी।

12

लगता है मुद्दतों

बाद इन परिंदों कि

कोई अधुरी

ख्वाइश पूरी हुई है,

इसलिए उन्हें

रिहाई और

हम हैं कैद हुई हैं।

shayari poem in hindi

13

अपने चेहरे से जुल्फ़ ना हटाया करो

चाँद पर बदली अच्छी सी लगती हैं

हवाओं के झोकों से गालों पर बिखरकर बरसात-ए-घटा,अच्छी सी लगती हैं

लहराती हुई जुल्फो पर, तुम्हारा यू उंगलिया फिराना तबसुम-ए-अदा,अच्छी सी लगती हैं

चेहरे पर जुल्फो का पहरा,क्या जादू है तुम्हरा

उफ्फ़ ये बेशुमत नज़ाकत,अच्छी सी लगती हैं

ये शरारती अदाये अच्छी सी लगती हैं।

Best Love poem ( कविता )

14

मेरा भाई…

मेरा लाड़ला है और मैं उसकी

कभी बात-बात पर क्षगड़ना

गुस्सा, रूठना और फिर मनाना

कुछ ऐसा है हमारे रिश्ते का किस्सा

और भाई…

तू मेरी जिंदगी का अहम है हिस्सा

पर थोड़ा अकडू, थोड़ा खडूस है

प्यार भी बहुत करता है,जताता भी नहीं

मुझ पर खास हक जमाता भी वही है

सुन भाई…

तू कितना भी तंग कर लें मुझे

लेकिन हर मोड़ पर संग हूं मैं तेरे।

15

क्या कहा!पहचानते हो

अगर में पूछू प्यार क्या है

तो बताना जनते हो,ओर

चलो हमारे रिश्ते में

दो पहिये लगा कर,लगाम

तुम्हारे हाथ में भी देदू

सच बताना चलाना जनते

16

खास दोस्त

सितारों की तरह होते हैं

जिन्हें हम रोज नहीं देखते

लेकिन दूर होते हुए भी

हमेशा साथ रहते हैं

17

जो कभी जान लेते थे,

पहले दिल की बात, बिना बोले

अब सुनकर भी

नजरअंदाज कर देते हैं।

18

काश हम समझा पाते

इन दुरियो कि वजह

बेवफ़ाई हम नहीं

बल्कि वक्त ने कि

हमारे साथ।

19

छोड़ दी,वो राहें हमने

जो हमें, उनके और करीब ले

जाती थीं, न चाहते हुए भी

उनकी याद दिलाती थी।

20

कुछ इस तरह कहानी शुरुआत है

,ये सिर्फ़ लब्ज़ ही नहीं, मेरे दिल के जज्बात हैं।

जब भी उसे देखती हूँ

समझो कि चारों दिशा तरफ सब कुछ ठहर सा जाता है ओर चारों दिशा सन्नाटा होता है

मनसहमसाजाता है

किरातों मे कुछ ऐसे खयाल आते है

कि मैं फिर सोना नहीं चाहती

मैं चाहती तो हूँ,उसे

पर,बताना नहीं चाहती।

21

एक पल लगता है

किसी के करीब जाने में

और बरसों लग जाते हैं

उसे भुलाने में।

22

ये लफ्ज भी कमाल के होते हैं,

दुःख में कहो तो शायरी

और ख़ुशी में कहो तो कविता

बन जाते हैं।

Shayari poem in hindi ( कविता )

23

यादें उसकी, बातें उसकी

सारी मुलाका. उसकी,आज भी

बहुत याद आती है उसकी

वो चली गई मुझसे दूर कुछ बजे रिश्ते निभाने

ये सोचकर ही तो, उसके लिए

मोहब्बत और बढ़ जाती है।

24

चाय के कप से,उठते धुएँ से

अक्सर तेरी तस्वीर बन जाती है

तेरे खयलों में खोकर ही

अक्सर मेरी चाय ठंडी हो जाती हैं।

25

रूठे यार,मान जा…

रूठे को मनाना, मुझे नहीं आता

पर रूठा भी तो कोई अपना है

जो जान से ज्यादा प्यारा है

जिसे मनाना जरूरी है

रूठे व्यक्ति की एक बात अच्छी

लगती है,कि वो अब मुझे थोड़ा

कम परेशान करता है, पर अब तो

उसकी खामोशी भी खलती हैं मुझे

अपनी गलती को भी, कहां अपनाना

सीखा है मैंने,सॉरी-मान जा यार

कितनी बार बोलना पड़ता है, फिर भी

तुझे मनाने को, दिल ये मेरा बार-बार करता है।

26

तुम नहीं जानते तुम कितने प्यारे हो

तुम जान हो हमारी,तुम जान से प्यारे हो

चाहे कितनी भी दूरियां हो हमारे दरमियां

तुम कल भी हमारे थे,तुम आज भी हमारे हो

27

अक्सर बाहर का शोर

और अंदर की खामोशी

इंसान को गलत कदम उठाने

पर मजबूर कर देती है।

28

वो नज़रो से दूर होकर भी,

नज़रों में बसते जा रहें हैं,

न जाने कैसे वो दूर होकर

भी,

दिल में बसते ही जा रहें हैं।

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *